बैकारेट पर बेट लगाने का सबसे अच्छा तरीका क्या है? मुझे कहां पता चल सकता है?

बैकारेट पर बेट लगाने का सबसे अच्छा तरीका क्या है? मुझे कहां पता चल सकता है?

time:2021-10-27 15:07:59 लगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा Views:4591

फ़ुटबॉल प्लेटफ़ॉर्म सिस्टम रेंटल बैकारेट पर बेट लगाने का सबसे अच्छा तरीका क्या है? मुझे कहां पता चल सकता है? 188bet थाईलैंड,fun88 बोनस,lovebet 288 एमएक्स,lovebet गेम्स ऐप,lovebet श कैसीनो,lovebetना एंड्रॉइड,बैकारेट 540 नमूना,बैकारेट एल'ओम्ब्रे संग्रह,सर्वश्रेष्ठ पांच इनडोर पौधे,लाठी live.com,कैसीनो ग्रैन मैड्रिड,शतरंज पहली चाल,क्रिकेट 786,क्रिकेट आज,एस्पोर्ट्स प्लेटफॉर्म,फ़ुटबॉल 6 जून 2021,फुटबॉलरों का नाम,है क्रिकेट,एमपीएल में पूल कैसे खेलें,क्या ऑनलाइन बैकारेट सुरक्षित है?,के क्रिकेट क्लब,लाइव कैसीनो खाता खोलें मुफ्त नकद,लॉटरी फ्लोरिडा,लूडो पैसा कमने वाला,ऑनलाइन खाता खोलने वाला URL,ऑनलाइन गेम धोखेबाज,ऑनलाइन स्लॉट अल्बर्टा,बैकरेट फोरम खेलें,पोकर टेबल टॉप,रूले डिश,रमी 45 डाउनलोड,रम्मीकल्चर नंबर,स्लॉट 40 लाइनें,खेल आधा पंत,टी लॉटरी पोस्ट,सबसे अच्छा टेक्सास होल्डम गेम,हमें लॉटरी 2020,किसमें बैकारेट खेलना है?,chess अर्थ,ऑनलाइन बैकारेट भ्रामक है,क्रिकेट छोरी,घड़ी लाटरी,तीन बाघ ™,बरसात एल्बम,मार्क छह लॉटरी,स्टेटस के गाने, .लगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा

कम अस्थिरता वाले शेयरों का अच्छा करने की एक मुख्य वजह गिरावट को थामना है.
क्‍या लार्जकैप सेगमेंट से कम अस्थिर शेयर चुनकर लंबी अवधि में ज्यादा फायदा उठाया जा सकता है? आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी 100 लो वोलेटिलिटी 30 ईटीएफ एफओएफ के निवेश का यही आधार है. यह 2017 में लॉन्‍च ईटीएफ पर आधारित है. आइए, जानते हैं कि क्‍या इस तरह की रणनीति में वाकई कोई दम है.

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है. इसने निवेशकों को मायूस किया है. कई निवेशकों ने कम लागत वाले इंडेक्‍स फंडों का रुख कर लिया है.

हालांकि, सीधे-सादे इंडेक्स फंड भी बाजार की रोजमर्रा की अस्थिरता से अछूते नहीं हैं. ज्यादा स्टेबल रिटर्न की चाहत रखने वाले निवेशकों के पास एक रास्ता है. वह है कम से कम अस्थिर शेयरों में चुनिंदा तरीके से निवेश करने का.

इसे भी पढ़ें : लंबी अवधि में क्‍या क्रिप्‍टोकरेंसी पैसा बनाने में मदद करेगी?

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी 100 लो वोलेटिलिटी 30 ईटीएफ एफओएफ इस तरह की पेशकश करता है. इसका पोर्टफोलियो 100 टॉप कंपनियों में से 30 सबसे कम अस्थिर शेयरों से बना है.

यह फंड दूसरे इंडेक्‍स फंडों से कितना अलग है? कम अस्थिरता पर जोर के साथ इसके इंडेक्‍स में वजन के लिहाज से 3 टॉप सेक्‍टर शामिल हैं. इनमें कंज्यूमर गुड्स, आईटी और ऑटोमोबाइल्‍स हैं. पारंपरिक तौर पर ये डिफेंसिव सेक्टर हैं.

एनबीएफसी के साथ बैंकिंग शेयर निफ्टी100 लो वोलेटिलिटी 30 इंडेक्‍स का महज 8.6 फीसदी हैं. इस इंडेक्‍स के टॉप शेयरों में पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, डाबर इंडिया, अल्ट्राटेक सीमेंट, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन और बजाज ऑटो प्रमुख हैं. न केवल इंडेक्‍स कम अस्थिरता वाला है बल्कि इसका वैल्यूएशन प्रोफाइल भी कम है.

इसे भी पढ़ें : मनी मार्केट म्यूचुअल फंडों के बारे में ये 5 बातें जान लें, होगा फायदा

ये सभी बातें इसके पक्ष में जाती हैं. लेकिन, क्‍या ये अच्‍छे प्रदर्शन की वजह बनेंगी? कारण है कि कम अस्थिरता या कम जोखिम को कम रिटर्न के साथ जोड़कर देखा जाता है. 2008 से लो वोलेटिलिटी इंडेक्‍स ने 13 में से 8 कैलेंडर वर्ष में प्रमुख सूचकांकों से बेहतर प्रदर्शन किया है. यह उस धारणा के उलट है जो कहती है कि कम जोखिम माने कम रिटर्न है.

master

कम अस्थिरता वाले शेयरों का अच्छा करने की एक मुख्य वजह गिरावट को थामना है. ओमनीसाइंस कैपिटल के सीईओ और चीफ इंवेस्‍टमेंट स्ट्रैटेजिस्ट विकास गुप्ता ने कहा, ''कम अस्थिरता एक तरह का नतीजा है. यह कंपनियों की मजबूत बुनियादी बातों के कारण हो सकता है. ये अनुमान योग्‍य ग्रोथ की पेशकश करती हैं. इनका फायदा स्‍पष्‍ट दिखाता है.''

कोई शेयर जितना ज्यादा गिरता है, उसे वापस अपने स्‍तर पर आने में उतना ही फायदा कमाने की जरूरत पड़ती है. अगर कोई शेयर 50 फीसदी टूटता है तो वापसी के लिए उसे 100 फीसदी चढ़ना होगा. कम गिरावट वाले शेयर को वापसी के लिए लंबी छलांग लगाने की जरूरत नहीं पड़ती है. हालांकि, कम अस्थिरता हमेशा अच्छा नहीं करती है. हर फैक्‍टर का अपना सीजन होता है. फैक्‍टर की टाइमिंग का सही अनुमान लगा पाना मुश्किल है.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

रिटर्नस्थिर शेयरों में पैसा लगाने वाले फंडइंडेक्स फंडएफओएफलार्ज कैप म्‍यूचुअल फंडआईसीआईसीआई प्रू निफ्टी 100 लो वोलेटिलिटी 30 ईटीएफ

ETPrime stories of the day

Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola
FMCG

Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola

10 mins read
As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Recent hit

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.
Policy and regulations

Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.

12 mins read

निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.एनपीएस में निवेश किया है? जानिए एसेट एलोकेशन में कैसे करें बदलाव

वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन की सभी स्कीमों से निकलने की दी सलाह

एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें.निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.सुपर साइकिल का ऐसे उठाएं फायदा, इन कमोडिटीज पर लगाएं दांव

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
रूले वीडियो वेगास

बेहतर और सरल रिटर्न के लिए निवेशक साधारण प्रोडक्ट्स का रुख कर रहे हैं. सरकार ने अप्रैल-जून तिमाही में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है.

कुंवारे से प्यार करो

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.

क्रिकेट kab hai

बेहतर और सरल रिटर्न के लिए निवेशक साधारण प्रोडक्ट्स का रुख कर रहे हैं. सरकार ने अप्रैल-जून तिमाही में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है.

रूले इतिहास

अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.

तीन पत्ती टर्बो

भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी